Online India

Roshan Bharti   2018-03-01

धोनी ने खोला राज, इस वजह से नहीं लगाते हेलमेट पर तिरंगा

OnlineIndia खेल। भारतीय खिलाड़ियों को देश के प्रति उनके प्यार के लिए भी जाना जाता है। जिसे खिलाड़ी तरह-तरह से दर्शाते हैं। अगर बात करें क्रिकेटर्स की तो वे अपने हेलमेट पर तिरंगा लगाकर देश के प्रति अपना प्यार दर्शाते हैं। वहीं यह ट्रेंड सचिन तेंडुलकर ने शुरू किया था। तब से आज तक यह रिवाज चल रहा है। वीरेंदर सहवाग, गौतम गंभीर, विराट कोहली सब अपने हेलमेट पर तिरंगा लगाकर खेले हैं। मगर क्या आपको पता है पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी भी ऐसा किया करते थे, लेकिन अचानक उन्होंने ऐसा करना बंद कर दिया। लेकिन क्या आपने सोचा है कि महेंद्र सिंह धौनी विकेटकीपिंग करते हुए जो हेलमेट पहनते हैं उस पर तिरंगा क्यों नहीं होता। अब लोगों के मन में सवाल उठ रहा है कि आखिर धोनी ने तिरंगा लगाना बंद क्यों कर दिया? यह सवाल सोशल मीडिया पर उठा और वहीं इसका जवाब भी मिल गया। 

दरअसल महेंद्र सिंह धोनी जब विकेट के पीछे खड़े होते हैं तो विकेटकीपिंग करते हुए धोनी को कभी टोपी तो कभी हेलमेट पहनना होता है। खासतौर पर वनडे और टी-20 में गेंदबाज तेजी से बदलते हैं। जब तेज गेंदबाज बॉलिंग करते हैं तो धोनी हेलमेट पहनकर विकेट के पीछे खड़े हो जाते हैं और कैप को अपनी कमर पर अपने पैजामे में दबा लेते हैं, लेकिन जब स्पिनर गेंदबाज़ी करते हैं तो वो हेलमेट को पैंट के पीछे दबा नहीं सकते और तिरंगा लगे हेलमेट को जमीन पर रख नहीं सकते। वैसे भी टी-20 ऐसा फॉर्मेट हैं जहां खेल बड़ी तेजी से खेला जाता है तो धोनी बार-बार हेलमेट के लिए 12वें खिलाड़ी की सेवाएं नहीं लेते हैं। इसलिए धोनी टोपी और हेलमेट, दोनों एकसाथ लेकर मैदान में आते हैं।

वहीं राष्ट्रीय ध्वज का अपमान न हो, इसलिए वे इस हेलमेट पर तिरंगा नहीं लगाते। अगर नियमानुसार भी देखें तो जिन चीजों पर राष्ट्रीय ध्वज लगा होता है, उन्हें जमीन पर नहीं रखते हैं। इस तरह महेंद्र सिंह धोनी अपने राष्ट्रीय प्रतीक का सम्मान करते हैं और इसलिए ही वे बगैर तिरंगे वाले हेलमेट पहनते हैं।

 

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like