Online India

OnlineIndia   2017-10-11

छत्तीसगढ़ में यहां बनेगा खनिज म्यूजियम, होगा खास!

OnlineIndia रायपुर। विभिन्न प्रकार के खनिज संपदाओं के लिए केवल देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी छत्तीसगढ़ को पहचाना जाता है। यहां की धरती में सोना, हीरा, कोयला, बाइक्साइट, कोरंडम, टिन और लोहा प्रचुर मात्रा में है। खनिज संपदा के मामले में अति समृद्धशाली इस राज्य में अब बहुत जल्द खनिज म्यूजियम भी आकार लेने वाला है। इसके लिए शासन स्तर पर पहल भी शुरू हो चुकी है। वहीं इस खनिज म्यूजियम के बन जाने से यहां आने वाले देशी एवं विदेशियों पर्यटकों व खनिज मामलों में रुचि रखने वालों को एक ही जगह पूरी जानकारी हासिल हो सकेगी।

 

यहां बनेगा खनिज म्यूजियम

पिछले महीने खनिज विकास निगम की बैठक में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अफसरों को खनिज म्यूजियम बनाने के लिए तैयारी करने के निर्देश दिए थे। मुख्यमंत्री सचिवालय से मिली जानकारी के अनुसार इस म्यूजियम की स्थापना राजधानी रायपुर के सड्डू स्थित साइंस सिटी के आसपास की जाएगी। लगभग 5 एकड़ में बनने वाले इस खनिज म्यूजियम में प्रदेश के सारे खनिजों की पूरी जानकारी रहेगी। पता चला है कि इसका डीपीआर भी तैयार किया जा रहा है। वहीं इसकी स्थापना खनिज निधि से की जाएगी।

 

इन खनिजों की भरमार है यहां

ज्ञात हो कि राज्य में हीरा, सोना, कोयला, बाक्साइट, कोरंडम, टिन और लोहा भी पाया जाता है। बस्तर के बैलाडीला की लौह अयस्क खदानें दुनिया की सबसे बेहतरीन खदानों में से एक है। वहीं बिलासपुर संभाग में कोयला खदानों की भरमार है, जिसके कारण प्रदेश बिजली उत्पादन के मामले में देश का अग्रणी राज्य बनकर उभरा है। वहीं सोना खान में सोने की और गरियाबंद जिले के मैनपुर में हीरे की खदानें हैं मगर सोने और हीरे पर अब तक काम शुरू नहीं हो पाया है। इतना ही नहीं कबीरधाम और सरगुजा के मैनपाट इलाके में बाक्साइट की खदानों से एल्यूमिनियम निकाला जा रहा है। वहीं बस्तर में टिन, कोबाल्ट, कोरंडम का भी उत्खनन किया जा रहा है। कुछ रेडियोधर्मी खनिजों का भी वहां पता चला है। खनिज के मामले में देश में छत्तीसगढ़ की गिनती प्रमुख राज्यों में होती है। ऐसे में खनिज म्यूजियम की स्थापना से लोगों को यहां की समृद्ध धरती की पूरी जानकारी एक ही छत के नीचे मिल पाएगी।

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like