Online India

  2016-02-06

3 हजार आबादी वाले 200 गांवों में बंद होंगी शराब दुकानें

रायपुर - प्रदेश में अब तीन हजार से अधिक आबादी वाले गांवों में स्थित शराब दुकानों को एक अप्रैल से सरकार बंद करने की योजना टायर कर रही है I जिससे राज्य में संचालित 200 से अधिक गांवों में शराब की बिक्री पर  प्रतिबंधित लग जाएगी। वर्तमान में लगभग 289 गांवों में इस सन्दर्भ के चलते शराब बंदी है। गुरुवार को राज्य आबकारी सलाहकार समिति की हुई बैठक में ये निर्णय लिया जायेगा । इसमें आगामी वित्तीय वर्ष की आबकारी नीति को अंतिम रूप दिया जाएगा। हालांकि समिति के सदस्यों को इस बारे में अभी कोई जानकारी नहीं दी गई है कि नई नीति में किस तरह का प्रस्ताव होगा, लेकिन इस बात के पुख्ता संकेत मिल रहे हैं कि सरकार ने आंशिक शराबबंदी का विस्तार करने का फैसला लगभग कर दिया है।मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने पिछले दिनों इसके संकेत भी दिए थे कि बड़ी आबादी वाले कस्बों की दुकानें भी बंद कर दी जाएंगी। इसी के अनुरूप सलाहकार समिति में प्रस्ताव रखा जा रहा है।उसके बाद 5 फरवरी को कैबिनेट में इस पर मुहर लग जाएगी। नई नीति के तहत छत्तीसगढ़ में शहरों के साथ ब्लाक और तहसील मुख्यालय जैसे 600 के करीब बड़े गांवों में ही शराब बेची जा सकेगी। उल्लेखनीय है कि राज्य के कई हिस्सों में ग्रामीण और महिलाएं शराब दुकानें बंद करने की मांग सरकार से कर रहे हैं जिसके मद्देनजर राज्य शासन ने इस पर गौर करते हुए कार्यवाही kar रही है । कीमतों में होगी 10 प्रतिशत वृद्धि   राज्य में शराब की खपत को हतोत्साहित करने के लिए सरकार देसी और विदेशी शराब की कीमत बढ़ाने जा रही है। यह वृद्धि शराब के ब्रांड के अनुसार करीब 5 से 10 फीसदी तक शराब को महंगी करने की तैयारी है। इससे ग्रामीण क्षेत्रों में शराब की दुकानों में भीड़ कम होने की संभावना है। इसके अलावा सरकार ने ब्रेवरेजेस कारपोरेशन के राजस्व लक्ष्य में 10 प्रतिशत वृद्धि का भी प्रस्ताव है। शराब की बिक्री से सरकार करीब 3300 करोड़ रुपए प्राप्त करना चाहती है।

Please wait! Loading comment using Facebook...

You Might Also Like